हुमायूं के कुछ रोचक तथ्य,,,,,,,,?


         मुगल बादशाह
नसीरुद्दीन हुमायूँ
मुगल बादशाह
Emperor Humayun.JPG
राजकाल1530 -1540
जन्म17 मार्च1508
काबुल
मृत्युमार्च 4, 1556 (उम्र 47)
दिल्ली
दफ़नहुमायुं का मकबरा
पूर्वाधिकारीबाबर
उत्तराधिकारीअकबर
पत्नी/पत्नियाँहमीदा बानु बेगम
बेगा बेगम
बिगेह बेगम
चाँद बीबी
हाजी बेगम
माह-चूचक
मिवेह-जान
शहज़ादी खानम
राजघरानातिमुर
वंशमुगल
पिताबाबर
हुमायूँ एक मुगल शासक था। प्रथम मुग़ल सम्राट बाबर के पुत्र नसीरुद्दीन हुमायूँ (6 मार्च 1506 – 22 फरवरी,1556) थे। यद्यपि उन के पास साम्राज्य बहुत साल तक नही रहा, पर मुग़ल साम्राज्य की नींव में हुमायूँ का योगदान है।
बाबर की मृत्यु के पश्चात हुमायूँ ने 1530 में भारत की राजगद्दी संभाली और उनके सौतेले भाई कामरान मिर्ज़ा ने काबुल और लाहौर का शासन ले लिया। बाबर ने मरने से पहले ही इस तरह से राज्य को बाँटा ताकि आगे चल कर दोनों भाइयों में लड़ाई न हो। कामरान आगे जाकर हुमायूँ के कड़े प्रतिद्वंदी बने। हुमायूँ का शासन अफ़गानिस्तानपाकिस्तान और उत्तर भारत के हिस्सों पर 1530-1540और 1555-1556फिर रहा।
भारत में उन्होने शेरशाह सूरी शेरशाह ने इसे बेलग्राम के युद्ध में पराजित कर दिया था तथा उससे बात से निर्वासित होना पड़ा उसने निर्वासन का कुछ समय काबुल सिंध अमरकोट में बिताया अंत में ईरान के शासक तहमास्य के पास शरण ली । ईरान के शासक की मदद से उसने काबुल कंधार में मध्य एशिया के क्षेत्रों को जीता। उसने 1555 ई० में शेरशाह के अधिकारियों को हराकर एक बार फिर दिल्ली आगरा पर अधिकार कर लिया। 1556 में उसकी मृत्यु हो गई इस के साथ ही, मुग़ल दरबार की संस्कृति भी मध्य एशियन से इरानी होती चली गयी।
हुमायूँ के बेटे का नाम जलालुद्दीन मुहम्मद अकबर था। हिमायू की मृत्यु के समय उसका इकलौता पुत्र अकबर पंजाब के कलानौर में था। उसे वहीं पर शासक घोषित कर दिया गया।
                

SHARE THIS
Previous Post
Next Post